बुधवार, नवंबर 15, 2006

आज मानव का सुनहला प्रात है

आज मानव का सुनहला प्रात है,
आज विस्मृत का मृदुल आघात है;
आज अलसित और मादकता-भरे,
सुखद सपनों से शिथिल यह गात है;

मानिनी हँसकर हृदय को खोल दो,
आज तो तुम प्यार से कुछ बोल दो ।

आज सौरभ में भरा उच्छ्‌वास है,
आज कम्पित-भ्रमित-सा बातास है;
आज शतदल पर मुदित सा झूलता,
कर रहा अठखेलियाँ हिमहास है;

लाज की सीमा प्रिये, तुम तोड दो
आज मिल लो, मान करना छोड दो ।

आज मधुकर कर रहा मधुपान है,
आज कलिका दे रही रसदान है;
आज बौरों पर विकल बौरी हुई,
कोकिला करती प्रणय का गान है;

यह हृदय की भेंट है, स्वीकार हो
आज यौवन का सुमुखि, अभिसार हो ।

आज नयनों में भरा उत्साह है,
आज उर में एक पुलकित चाह है;
आज श्चासों में उमड़कर बह रहा,
प्रेम का स्वच्छन्द मुक्त प्रवाह है;

डूब जायें देवि, हम-तुम एक हो
आज मनसिज का प्रथम अभिषेक हो ।

- भगवतीचरण वर्मा

29 टिप्पणियाँ:

10:09 am पर, Blogger राकेश खंडेलवाल ने कहा ...

कालजयी रचना पर कुछ भी लिखना हमें असंगत होगा
आप इसे सन्मुख लाने पर कोटि बधाई लें स्वीकारें.

 
7:47 am पर, Blogger Nishikant Tiwari ने कहा ...

very good sir i liked it very much

 
7:17 am पर, Blogger Nishikant Tiwari ने कहा ...

दिल की कलम से
नाम आसमान पर लिख देंगे कसम से
गिराएंगे मिलकर बिजलियाँ
लिख लेख कविता कहानियाँ
हिन्दी छा जाए ऐसे
दुनियावाले दबालें दाँतो तले उगलियाँ ।
NishikantWorld

 
5:17 am पर, Blogger Aditya ने कहा ...

I really liked ur post, thanks for sharing. Keep writing. I discovered a good site for bloggers check out this www.blogadda.com, you can submit your blog there, you can get more auidence.

 
12:46 pm पर, Blogger SargamDutt ने कहा ...

We are looking for hindi writers to send in poems, stories, novella, essays...for publication in http://newaesthetic.in and our first issue of the annual publication PENDRIVE. We are looking for works that push the boundaries of form and are in dialogue with our times. Kindly mail us your poems to editor.newaesthetic@gmail.com

 
8:14 am पर, Blogger simran khanna ने कहा ...

wah wah bhut khub...dil ko chu lia aap ki kavita ne.
news

 
1:20 am पर, Blogger hemant ने कहा ...

bahut achha sankalan kiya hai aapne
aapki dvara chuni hui kavita mere dil ko gahrai tak chhoo gai.
mujhe is tarah ki kavita bahut pasand hai. aap ko lakh-lakh badhai.........

 
3:25 am पर, Anonymous Bhaidooj flowers ने कहा ...

bahut acchha lekh hai such me aaj manav ka sunhala praat hai..... it's really nice...

 
2:33 am पर, Anonymous Christmas flowers ने कहा ...

I really liked ur post, thanks for sharing. Keep writing. I discovered a good site for bloggers check out this www.blogadda.com, you can submit your blog there, you can get more auidence.

 
12:38 am पर, Anonymous flowers for valentine ने कहा ...

We are looking for hindi writers to send in poems, stories, novella, essays...for publication in http://newaesthetic.in and our first issue of the annual publication PENDRIVE. We are looking for works that push the boundaries of form and are in dialogue with our times.

 
2:38 am पर, Blogger खुर्शीद अहमद ने कहा ...

आपने बहुत अच्छी कविता लिखी है. हिंदी शब्दों का बहुत ही अच्छा प्रयोग किया है.

 
1:52 am पर, Blogger shristi singh yadav ने कहा ...

i liked so much ur this poem.really it's so good .thanku so much ur this post and keep writting..
can i post my poems ur website, thats are written by me and lot of.but absence in the knowledge they are have me only...plz can u guide me that hw my poems publish in any neuspaper and magazine and on blog...??

 
4:10 am पर, OpenID meraayam ने कहा ...

देश के सम्मुख आज जो भी समस्याएं हैं उनका एक ही समाधान है

 
11:00 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

फाडू कविता।

 
12:05 pm पर, Blogger tbsingh ने कहा ...

a nice poem

 
2:45 am पर, Anonymous Krupesh ने कहा ...

Nice poem

 
4:42 pm पर, Anonymous alonebit ने कहा ...

Sahi farmaya apne

 
1:10 am पर, Blogger Dhruvv ने कहा ...

Bahut khub hai kavita..
Shukriya kabool kijiye isse hum tak pahuchane k liye..
mere blog par zara gaur farmayen..
http://navanidhiren.blogspot.in/search/label/Poem

 
5:22 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

Видео ютуб улётное http://youtu.be/knL93B57iiI
Прикольное видео секс http://youtu.be/X2sdWXysJIc
[youtube]knL93B57iiI[/youtube]
[youtube]X2sdWXysJIc[/youtube]
video youtube http://www.youtube.com/user/aeytovaresch/
Вот ещё прикольное Видео
http://www.youtube.com/watch?v=6Xkha5ghars

video Видео

 
4:12 am पर, Blogger Devendra Soni ने कहा ...

वाह वाह क्या बात हे ...

http://stopturn.blogspot.in/search/label/My%20Poetry

 
12:06 am पर, Anonymous सिंह स्टाइल स्टूडियो ने कहा ...

बहुत खूब...
हिन्दी कविताएँ

 
1:50 am पर, Blogger PoeticRebellion ने कहा ...

What else we can say.... these are the awesome lines of it's era/ ////

 
1:11 am पर, Anonymous Send Flowers to Mumbai ने कहा ...

Your poem is well.
Good continue.

 
1:13 am पर, Anonymous Send Flowers to Delhi ने कहा ...

Really it's a good post it make seance.
well done

 
1:17 am पर, Anonymous Send Flowers to Chennai ने कहा ...

Poem is a way to express anything it will affect.
Excellent

 
10:08 am पर, Anonymous Online Florist in Bangalore ने कहा ...

Many things we can't explain in easy way,poem is a medium to express
feelings in simple way.

 
5:29 am पर, Anonymous dinesh kumar ने कहा ...

Bahut khub rachna sir ji :)

 
3:50 am पर, Anonymous sachinkumar chauhan ने कहा ...

bahut hi acche shabd hai or unhe bakhubi mila me pirohya gya hai,

 
2:31 am पर, Blogger flowersnwishes ने कहा ...

Send Flowers to India, Flowers to India, Send Flowers in India, Flower delivery India, Send Online flowers to India, Same day flowers to India, sending flowers to India, send flowers to India, Flower delivery India, Online Flower delivery in India, flowers online in India Send Gifts to India, Send gift to India, online gifts to India, Mother’s Day flowers to India, Rakhi to India, online gifts India, sending gifts to India, order flowers to India, online flower delivery India Flowers N Wishes is an online Florist. We deliver Flowers, Chocolates, Cakes, Dry Fruits to all the major cities like Delhi, Mumbai, Chennai, Kolkata, Bangalore, Chandigarh, Pune Etc. We deliver Fresh Flowers like Roses, Zebras, Lilies, and Carnations etc. on different occasions like Valentine’s Day, Weddings, Anniversaries, Birthdays and all the occasions which one can think.
You can book your order online at www.flowersnwishes.com and we will deliver your emotions and feelings in the form of flowers to your loved ones. We also take midnight orders which is available in the major cities.
Book your orders online at Flowers N Wishes

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

शुक्रवार, सितंबर 22, 2006

पर्वत-सी पीर

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी,
शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए।

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में,
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,
सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।

- दुष्यन्त कुमार

15 टिप्पणियाँ:

1:10 am पर, Anonymous संजय बेंगाणी ने कहा ...

अच्छी कविता हैं. क्रांति के सुर लग रहे हैं.

खुद से करो शुरू
यह किसने कहा की
कारवाँ बनना ही चाहिए.

 
5:37 am पर, Anonymous नितिन बागला ने कहा ...

इसी कविता की दो पंक्तियाँ और..

अब दस्तकों का दरवाज़ों पर होता नहीं असर,
हर हथेली ख़ून से तरबतर होनी चाहिए ॥

 
11:35 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

bahut khoob, yeh main apni 12 varshiya bitiya ke liye print kar ke le ja raha hun

 
1:21 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

laajawaab.

ramesh mittal

 
2:09 am पर, Anonymous Lovely Jaiswal Advocate ने कहा ...

Hamne Dekha Hai Tujh mein Hunar Hai magar Khud Ko Mita Dene Ki Kubat Bhi Honi Chahiye

 
5:43 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

kranti ke path par bina ruke chalna chahiye

 
1:28 am पर, Blogger hemant ने कहा ...

aaj ke vartman samay me aise hi logon ki jarurat hai jo apni kavita ya karm ke dwara logon ko unka kartavy bodh karaye kyoki aaj ke is vartman samay me sab ko apni apni padi hai aise me aapka yah prayas bahut hi sarahniy kadam hai................
koti- koti dhanyvad

 
7:06 am पर, Anonymous Latest Hindi News ने कहा ...

acchi kavita hai dude...
ashaa hai aur bhi post karoge aage aap???

 
6:11 am पर, Anonymous Asha kumar kundra ने कहा ...

Dushyant jee hamesha prasangik rahage aane wali pidi ke liye be hamesha preranadayak rahege
Asha kumar kundra

 
2:15 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

Nice

 
7:16 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

आज के समाज को क्रान्तिरुपी कविताओ के माध्यम से जगाने की जरुरत है आशा है इस तरह की कविता आप फिर post करेगें...

 
11:20 am पर, Blogger tbsingh ने कहा ...

a stimulative poem

 
11:24 pm पर, Blogger Rishiraj Kumar ने कहा ...

Surat badlne ki koshishe to ho chuki
Ab apni sirat badlni chhiye

 
7:02 am पर, Blogger I Will Win Definitely ने कहा ...

संजय जी आप की कविता का जवाब दे रहा हूँ :-
आप ने कहा था:-
खुद से करो शुरू
यह किसने कहा की
कारवाँ बनना ही चाहिए.

और मेरा जवाब:
कारवां बनेगा तभी तो आग लग पायेगी
जब आग लगेगी तभी तो पर्वत की बर्फ पिघल पायेगी
जब बर्फ पिग्लेगी तभी तो गंगा निकल पायेगी.

 
2:31 am पर, Blogger flowersnwishes ने कहा ...

Send Flowers to India, Flowers to India, Send Flowers in India, Flower delivery India, Send Online flowers to India, Same day flowers to India, sending flowers to India, send flowers to India, Flower delivery India, Online Flower delivery in India, flowers online in India Send Gifts to India, Send gift to India, online gifts to India, Mother’s Day flowers to India, Rakhi to India, online gifts India, sending gifts to India, order flowers to India, online flower delivery India Flowers N Wishes is an online Florist. We deliver Flowers, Chocolates, Cakes, Dry Fruits to all the major cities like Delhi, Mumbai, Chennai, Kolkata, Bangalore, Chandigarh, Pune Etc. We deliver Fresh Flowers like Roses, Zebras, Lilies, and Carnations etc. on different occasions like Valentine’s Day, Weddings, Anniversaries, Birthdays and all the occasions which one can think.
You can book your order online at www.flowersnwishes.com and we will deliver your emotions and feelings in the form of flowers to your loved ones. We also take midnight orders which is available in the major cities.
Book your orders online at Flowers N Wishes

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

सोमवार, सितंबर 18, 2006

कहते हैं, तारे गाते हैं

कहते हैं, तारे गाते हैं ।

सन्नाटा वसुधा पर छाया,
नभ में हमने कान लगाया,
फिर भी अगणित कंठों का यह राग नहीं हम सुन पाते हैं ।
कहते हैं, तारे गाते हैं ।

स्वर्ग सुना करता यह गाना,
पृथ्वी ने तो बस यह जाना,
अगणित ओस-कणों में तारों के नीरव आँसू आते हैँ ।
कहते हैं, तारे गाते हैं ।

ऊपर देव, तले मानवगण,
नभ में दोनों गायन-रोदन,
राग सदा ऊपर को उठता, आँसू नीचे झर जाते हैं ।
कहते हैं, तारे गाते हैं ।

- हरिवंशराय बच्चन

12 टिप्पणियाँ:

1:24 pm पर, Blogger Manish ने कहा ...

अच्छी लगी बच्चन जी की ये कविता !

 
1:33 pm पर, Blogger SHUAIB ने कहा ...

ये भी बढिया है

 
12:39 pm पर, Anonymous राज गौरव.. ने कहा ...

बहुत बडिया है..
येह मेरी favt कविता है.. :)

 
2:24 pm पर, Blogger Manish Kumar ने कहा ...

कहते हैं, तारे गाते हैं ।

कितना कहा पर सुना नही , ये दोष तारों का नही
मानस ही हैं जो सुनते नही |

बहुत ख़ूब कही है बचन साहब ने

 
7:30 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

iss se khoobsoorat rachna ho hi nahi sakti... taaron ke geet per

 
12:26 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

Wah !bahut bahut Achi hai

 
10:21 am पर, Blogger Nitish ने कहा ...

bahut acchi kavita

 
3:26 am पर, Anonymous Valentine Day flowers ने कहा ...

Kya khub likha hai
आज मानव का सुनहला प्रात है,
आज विस्मृत का मृदुल आघात है;
आज अलसित और मादकता-भरे,
सुखद सपनों से शिथिल यह गात है;
really good i like this line........

 
4:44 pm पर, Anonymous vin ने कहा ...

Very nice .... Creation .

 
10:28 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

Very good poem by bacchan ji

 
5:53 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

Good

 
4:27 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

Its brilliant. truly best poem I ever read on stars.I lyk every poem of H. Bacchan

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

दुष्यन्त कुमार

दुष्यन्त कुमार जी की कविता सागर पर प्रेषित हुई रचनाएँ :

मत कहो, आकाश में कुहरा घना है
बाढ़ की संभावनाएँ सामने हैं
अपाहिज व्यथा
पर्वत-सी पीर

4 टिप्पणियाँ:

7:53 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

चुप मत बैठो , क्रान्ति करो अब , वरना सब लुट जायेगा | गिरवी रखदी माँ की इज्जत , कफन बेचकर खायेगा ||"कवि पटेल दीवाना " लखनऊ से

 
8:12 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

कुछ ही दिनो मे कंकड़ पत्थर मजबूरी मे खाओगे | कम्पनियों के मुंह पर ताले , जो ज्यादा चिल्लाओगे ||"कवि पटेल दीवाना" लखनऊ से

 
8:37 pm पर, Anonymous कवि पटेल दीवाना ने कहा ...

अब भी चेतो तुम सब प्यारे , देंगे साथ ये चाँद सितारे | बेइमानों की पोल खोलकर , रखदो काले चिटठे सारे || फिर से नई सुबह आयेगी , सूरज भी मुस्कायेगा ||| क्रान्ति करो अब चुप मत बैटठो , वरना सब लुट जायेगा ""कवि पटेल दीवाना "" लखनऊ से

 
2:32 am पर, Blogger flowersnwishes ने कहा ...

Send Flowers to India, Flowers to India, Send Flowers in India, Flower delivery India, Send Online flowers to India, Same day flowers to India, sending flowers to India, send flowers to India, Flower delivery India, Online Flower delivery in India, flowers online in India Send Gifts to India, Send gift to India, online gifts to India, Mother’s Day flowers to India, Rakhi to India, online gifts India, sending gifts to India, order flowers to India, online flower delivery India Flowers N Wishes is an online Florist. We deliver Flowers, Chocolates, Cakes, Dry Fruits to all the major cities like Delhi, Mumbai, Chennai, Kolkata, Bangalore, Chandigarh, Pune Etc. We deliver Fresh Flowers like Roses, Zebras, Lilies, and Carnations etc. on different occasions like Valentine’s Day, Weddings, Anniversaries, Birthdays and all the occasions which one can think.
You can book your order online at www.flowersnwishes.com and we will deliver your emotions and feelings in the form of flowers to your loved ones. We also take midnight orders which is available in the major cities.
Book your orders online at Flowers N Wishes

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

रविवार, सितंबर 17, 2006

अपाहिज व्यथा

अपाहिज व्यथा को सहन कर रहा हूँ,
तुम्हारी कहन थी, कहन कर रहा हूँ ।

ये दरवाज़ा खोलो तो खुलता नहीं है,
इसे तोड़ने का जतन कर रहा हूँ ।

अँधेरे में कुछ ज़िंदगी होम कर दी,
उजाले में अब ये हवन कर रहा हूँ ।

वे संबंध अब तक बहस में टँगे हैं,
जिन्हें रात-दिन स्मरण कर रहा हूँ ।

तुम्हारी थकन ने मुझे तोड़ डाला,
तुम्हें क्या पता क्या सहन कर रहा हूँ ।

मैं अहसास तक भर गया हूँ लबालब,
तेरे आँसुओं को नमन कर रहा हूँ ।

समाआलोचको की दुआ है कि मैं फिर,
सही शाम से आचमन कर रहा हूँ ।

- दुष्यन्त कुमार

3 टिप्पणियाँ:

3:09 am पर, Anonymous DILIP mishra ने कहा ...

मै नमन करता हूँ ऐसे महान व्यक्ति को....मेरे पास शब्द ही नहीं की इनकी प्रशंसा कैसे करूँ.............

 
10:51 am पर, Blogger Gurpreet Singh ने कहा ...

एक खूबसुरत रचना।

MY BLOG
http://yuvaam.blogspot.com/p/blog-page_9024.html?m=0

 
2:32 am पर, Blogger flowersnwishes ने कहा ...

Send Flowers to India, Flowers to India, Send Flowers in India, Flower delivery India, Send Online flowers to India, Same day flowers to India, sending flowers to India, send flowers to India, Flower delivery India, Online Flower delivery in India, flowers online in India Send Gifts to India, Send gift to India, online gifts to India, Mother’s Day flowers to India, Rakhi to India, online gifts India, sending gifts to India, order flowers to India, online flower delivery India Flowers N Wishes is an online Florist. We deliver Flowers, Chocolates, Cakes, Dry Fruits to all the major cities like Delhi, Mumbai, Chennai, Kolkata, Bangalore, Chandigarh, Pune Etc. We deliver Fresh Flowers like Roses, Zebras, Lilies, and Carnations etc. on different occasions like Valentine’s Day, Weddings, Anniversaries, Birthdays and all the occasions which one can think.
You can book your order online at www.flowersnwishes.com and we will deliver your emotions and feelings in the form of flowers to your loved ones. We also take midnight orders which is available in the major cities.
Book your orders online at Flowers N Wishes

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

शनिवार, सितंबर 16, 2006

तुम तूफान समझ पाओगे ?

तुम तूफान समझ पाओगे ?

गीले बादल, पीले रजकण,
सूखे पत्ते, रूखे तृण घन
लेकर चलता करता 'हरहर'--इसका गान समझ पाओगे?
तुम तूफान समझ पाओगे ?

गंध-भरा यह मंद पवन था,
लहराता इससे मधुवन था,
सहसा इसका टूट गया जो स्वप्न महान, समझ पाओगे?
तुम तूफान समझ पाओगे ?

तोड़-मरोड़ विटप-लतिकाएँ,
नोच-खसोट कुसुम-कलिकाएँ,
जाता है अज्ञात दिशा को ! हटो विहंगम, उड़ जाओगे !
तुम तूफान समझ पाओगे ?

- हरिवंशराय बच्चन

6 टिप्पणियाँ:

8:00 am पर, Blogger sujata ने कहा ...

tufan kavita ne aaj mujhe udvelit kar diya.

 
5:50 am पर, Blogger श्रीनिधि झा ने कहा ...

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

 
5:53 am पर, Blogger श्रीनिधि झा ने कहा ...

भारत के उत्कृष्टतम कवियों में से एक

 
2:32 am पर, Blogger Vishal Mishra ने कहा ...

very nice

 
5:19 am पर, Blogger Shekharlive ने कहा ...

http://payloog.com/?invite=440212

 
2:32 am पर, Blogger flowersnwishes ने कहा ...

Send Flowers to India, Flowers to India, Send Flowers in India, Flower delivery India, Send Online flowers to India, Same day flowers to India, sending flowers to India, send flowers to India, Flower delivery India, Online Flower delivery in India, flowers online in India Send Gifts to India, Send gift to India, online gifts to India, Mother’s Day flowers to India, Rakhi to India, online gifts India, sending gifts to India, order flowers to India, online flower delivery India Flowers N Wishes is an online Florist. We deliver Flowers, Chocolates, Cakes, Dry Fruits to all the major cities like Delhi, Mumbai, Chennai, Kolkata, Bangalore, Chandigarh, Pune Etc. We deliver Fresh Flowers like Roses, Zebras, Lilies, and Carnations etc. on different occasions like Valentine’s Day, Weddings, Anniversaries, Birthdays and all the occasions which one can think.
You can book your order online at www.flowersnwishes.com and we will deliver your emotions and feelings in the form of flowers to your loved ones. We also take midnight orders which is available in the major cities.
Book your orders online at Flowers N Wishes

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

बस इतना--अब चलना होगा

बस इतना--अब चलना होगा
फिर अपनी-अपनी राह हमें ।

कल ले आई थी खींच, आज
ले चली खींचकर चाह हमें
तुम जान न पाईं मुझे, और
तुम मेरे लिए पहेली थीं;
पर इसका दुख क्या? मिल न सकी
प्रिय जब अपनी ही थाह हमें ।

तुम मुझे भिखारी समझें थीं,
मैंने समझा अधिकार मुझे
तुम आत्म-समर्पण से सिहरीं,
था बना वही तो प्यार मुझे ।
तुम लोक-लाज की चेरी थीं,
मैं अपना ही दीवाना था
ले चलीं पराजय तुम हँसकर,
दे चलीं विजय का भार मुझे ।

सुख से वंचित कर गया सुमुखि,
वह अपना ही अभिमान तुम्हें
अभिशाप बन गया अपना ही
अपनी ममता का ज्ञान तुम्हें
तुम बुरा न मानो, सच कह दूँ,
तुम समझ न पाईं जीवन को
जन-रव के स्वर में भूल गया
अपने प्राणों का गान तुम्हें ।

था प्रेम किया हमने-तुमने
इतना कर लेना याद प्रिये,
बस फिर कर देना वहीं क्षमा
यह पल-भर का उन्माद प्रिये।
फिर मिलना होगा या कि नहीं
हँसकर तो दे लो आज विदा
तुम जहाँ रहो, आबाद रहो,
यह मेरा आशीर्वाद प्रिये ।

- भगवतीचरण वर्मा

1 टिप्पणियाँ:

6:35 am पर, Anonymous sardar singh ने कहा ...

jewan ka sachchai hni

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

मंगलवार, सितंबर 12, 2006

मैं प्रिय पहचानी नहीं

पथ देख बिता दी रैन
मैं प्रिय पहचानी नहीं !

तम ने धोया नभ-पंथ
सुवासित हिमजल से;
सूने आँगन में दीप
जला दिये झिल-मिल से;
आ प्रात बुझा गया कौन
अपरिचित, जानी नहीं !
मैं प्रिय पहचानी नहीं !

धर कनक-थाल में मेघ
सुनहला पाटल सा,
कर बालारूण का कलश
विहग-रव मंगल सा,
आया प्रिय-पथ से प्रात-
सुनायी कहानी नहीं !
मैं प्रिय पहचानी नहीं !

नव इन्द्रधनुष सा चीर
महावर अंजन ले,
अलि-गुंजित मीलित पंकज-
-नूपुर रूनझुन ले,
फिर आयी मनाने साँझ
मैं बेसुध मानी नहीं !
मैं प्रिय पहचानी नहीं !

इन श्वासों का इतिहास
आँकते युग बीते;
रोमों में भर भर पुलक
लौटते पल रीते;
यह ढुलक रही है याद
नयन से पानी नहीं !
मैं प्रिय पहचानी नहीं !

अलि कुहरा सा नभ विश्व
मिटे बुद्‌बुद्‌‌‍-जल सा;
यह दुख का राज्य अनन्त
रहेगा निश्चल सा;
हूँ प्रिय की अमर सुहागिनि
पथ की निशानी नहीं !
मैं प्रिय पहचानी नहीं !

- महादेवी वर्मा

1 टिप्पणियाँ:

5:14 am पर, Anonymous sujeet bharti ने कहा ...

tru..............

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट

मंगलवार, जनवरी 31, 2006

बाढ़ की संभावनाएँ सामने हैं

बाढ़ की संभावनाएँ सामने हैं,
और नदियों के किनारे घर बने हैं ।

चीड़-वन में आँधियों की बात मत कर,
इन दरख्तों के बहुत नाज़ुक तने हैं ।

इस तरह टूटे हुए चेहरे नहीं हैं,
जिस तरह टूटे हुए ये आइने हैं ।

आपके क़ालीन देखेंगे किसी दिन,
इस समय तो पाँव कीचड़ में सने हैं ।

जिस तरह चाहो बजाओ इस सभा में,
हम नहीं हैं आदमी, हम झुनझुने हैं ।

अब तड़पती-सी ग़ज़ल कोई सुनाए,
हमसफ़र ऊँघे हुए हैं, अनमने हैं ।

- दुष्यन्त कुमार

29 टिप्पणियाँ:

4:42 am पर, Blogger दीपक ने कहा ...

munish ji, aapne sachmuch bahut hi achchha kaam kiya hai, kavita sagar ke liye dheron badhai. hindi me net par jitna kaam ho raha hai, use aur badhane ki jarurat hai. main aapse kai baaten janna chahta tha. mera id hai: deepakmodi2001@gmail.com
aapse samkark karna chahunga

 
8:15 am पर, Anonymous स्वाति ने कहा ...

मुनीश जी, कविता सागर के लिये बहुत बहुत धन्यवाद और हार्दिक शुभकामनाएँ।

 
1:39 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

नमस्ते कुमार साहब। आपकी प्यारी कवीता पढ कर अच्छा लगा।

 
10:06 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

plese mujhe kavitayen apne id pe padne ka process batayen.

 
10:07 am पर, Blogger Bhaskar_Gupta ने कहा ...

plese main apne id pe kavitayen padh saku iska process batayen

 
4:29 am पर, Anonymous mohita ने कहा ...

hi munish ji!
kavitaaye bahut acche hain. mein bhi likhti hoon par procedure nahin pata hain .kya aap mughe help kar sakte ?????
mohita@live.in

 
2:36 am पर, Blogger BRAHMASTRA ABHIVYAKTI KA ने कहा ...

apka sankalan lazwab hai.dushyant kumar ki sabhi rachnaaen behatrin hain aur saamyik hain kintu un sabhi men se ek sabse samyik rachana aapane khoja hai kyonki is samay bihar men badh aai hui hai,yah aapne khoj isme sampadkiy kaushal jhalaktaa hai.

 
8:45 am पर, Blogger Suman ने कहा ...

nice

 
3:53 am पर, Blogger Harish ने कहा ...

Manish ji such me bahut acchhi kavita hai man ko moh liya.
flower delivery

 
5:51 am पर, Blogger madan bharti delhi ने कहा ...

aapke paan prayaso ko naman.vandan.

 
5:52 am पर, Blogger madan bharti delhi ने कहा ...

aapke pawan prayaso vehatrin rachnaye padhne ko mil rahi hai.thnx.

 
12:59 am पर, Blogger arunendra ने कहा ...

bahut achhi kavitaye hai

 
12:59 am पर, Blogger arunendra ने कहा ...

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

 
12:24 pm पर, Blogger sadhna ने कहा ...

sabhi kavitayen bahut hi achhi hainpar to bhi vishesh 'bas itna hi chalna hoga'

 
8:24 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

बहुत अच्छी कविताये लगी मुनिष जी बधाई पढवाने हेतु

 
8:25 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

बहुत अच्छी कविताये लगी मुनिष जी बधाई पढवाने हेतु

 
7:00 am पर, Blogger Pankaj Kumar Sah ने कहा ...

बहुत खूब

 
7:02 am पर, Blogger Pankaj Kumar Sah ने कहा ...

बहुत खूब

 
5:07 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

aapki ye kavitaien bahut achchi hain

 
6:09 am पर, Anonymous Ashish Mishra ने कहा ...


Mehnat say main kamata huun
main mehnat ke he khta huun,
terebaap ka jata hai,agar main hasta huun gata huun,

din bhar office main marta huun
ghar laut ks shaam ko aata huun
tere baap ka kya jata hai agar thoda man khus ho jata huun

raat ke gehrai main, thak kar main so jata huun,
dil main jo darad hai usey , dunia say chupata huun
har subh, utha chidiyon gana sunta, huun
bhagwan ke pooja karta huun,
aur bus yehi dua main krta huun,
ab aur nahi dard sehna hai,
mujhko to bus ita kehna hai,
tere baap ka kya jata hai ,agr yeh zindgi apne hisab say zzeena chahta huunn

 
6:11 am पर, Blogger abhay pratap singh ने कहा ...

path bana sakata nahi
par lubhane jo lage
vimukh ho sakata nahi
hai kathin path ka chayan
mai manata hun,
bhanu ki in rashmiyon me
vah bhi kathin lagata nahi !
apaka path bha gaya man ko mere,
aabhaar ka bhi shabd ruk sakata nahi!

 
6:17 am पर, Blogger abhay pratap singh ने कहा ...

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

 
9:56 am पर, Blogger Munish ने कहा ...

Bahut achhe Abhay Pratap Ji!

 
12:59 am पर, Blogger abhay pratap singh ने कहा ...

Adarneey Munish ji ! kya karun? mere
yeh shabd to abhibyakti bhar hain
apake is mahan prayas par !mai ek adana sa sarakari karmchari jo abhibyakti soonya hota hai ,apani abhibyakti ko nahi roak saka !

 
3:24 am पर, Anonymous Send Flowers Online in India ने कहा ...

Ati sundar tipaadi, dil khush ho gya ess site mei aake

 
2:48 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

very nice.

 
11:05 am पर, Anonymous ashok bhuniya@gmail.com ने कहा ...

कविता सागर के लिये बहुत बहुत धन्यवाद और हार्दिक शुभकामनाएँ

 
6:05 am पर, Blogger flowersnwishes ने कहा ...

valentine day gifts, flowers for valentines day, valentine day gifts, valentines day presents, gifts for valentines day, flowers valentines day, valentine day flowers, send valentines day gifts, valentines day chocolates, valentine day gift, send valentines day flowers, roses for valentines day delivery, v day gifts, valentines gifts ideas, cheap valentines flowers
Valentine Day gifts to India

 
9:05 am पर, Anonymous प्रवेश कुमार पीके ने कहा ...

मजा आ गया

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट