शनिवार, फ़रवरी 19, 2005

हरिवंशराय बच्चन

(२७ नवंबर १९०७ - १८ जनवरी २००३)

हरिवंशराय बच्चन जी की कविता सागर पर प्रेषित हुई रचनाएँ :

प्रतीक्षा
निर्माण
नव वर्ष
पतझड़ की शाम
दिन जल्दी-जल्दी ढलता है
साजन आए, सावन आया
संवेदना
जो बीत गई
अँधेरे का दीपक
आज तुम मेरे लिए हो
तुम तूफान समझ पाओगे ?
कहते हैं, तारे गाते हैं

1 टिप्पणियाँ:

8:30 am पर, Blogger maneesh ने कहा ...

Hi Munish,
This is maneesh Pandey from Kashi..
Mitra Aap ki Harivanshrai Bachchanji ki rachanayo ka sangrah bahut hi uttam hai.
ess utkrisht kary ke liye aap ko meri tarf se dher sari hardhik badhaiyan.
Aaap se ek anuroodh hai ki ess sangrah me bachchanji ki mahan rachana MADHUSALA ko bhi sangrahit karane kasth kare.

Dhanwad,
Aap ka Mitra,
Maneesh K Pandey

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट