गुरुवार, फ़रवरी 17, 2005

पतझड़ की शाम

है यह पतझड़ की शाम, सखे !

नीलम-से पल्लव टूट ग‌ए,
मरकत-से साथी छूट ग‌ए,
अटके फिर भी दो पीत पात
जीवन-डाली को थाम, सखे !
है यह पतझड़ की शाम, सखे !

लुक-छिप करके गानेवाली,
मानव से शरमानेवाली
कू-कू कर कोयल माँग रही
नूतन घूँघट अविराम, सखे !
है यह पतझड़ की शाम, सखे !

नंगी डालों पर नीड़ सघन,
नीड़ों में है कुछ-कुछ कंपन,
मत देख, नज़र लग जा‌एगी;
यह चिड़ियों के सुखधाम, सखे !
है यह पतझड़ की शाम, सखे !

- हरिवंशराय बच्चन

2 टिप्पणियाँ:

5:15 am पर, Blogger LAXMI NARAYAN LAHARE ने कहा ...

bahut sundar..........

 
6:46 am पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

wahh bahut khubb likha hai bachan ji ne

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट