शनिवार, मई 14, 2005

फूल और काँटा

हैं जन्म लेते जगह में एक ही,
एक ही पौधा उन्हें है पालता
रात में उन पर चमकता चाँद भी,
एक ही सी चाँदनी है डालता ।

मेह उन पर है बरसता एक सा,
एक सी उन पर हवाएँ हैं बहीं
पर सदा ही यह दिखाता है हमें,
ढंग उनके एक से होते नहीं ।

छेदकर काँटा किसी की उंगलियाँ,
फाड़ देता है किसी का वर वसन
प्यार-डूबी तितलियों का पर कतर,
भँवर का है भेद देता श्याम तन ।

फूल लेकर तितलियों को गोद में
भँवर को अपना अनूठा रस पिला,
निज सुगन्धों और निराले ढंग से
है सदा देता कली का जी खिला ।

है खटकता एक सबकी आँख में
दूसरा है सोहता सुर शीश पर,
किस तरह कुल की बड़ाई काम दे
जो किसी में हो बड़प्पन की कसर ।

- अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

4 टिप्पणियाँ:

7:54 pm पर, Anonymous बेनामी ने कहा ...

विकिपीडिया हिन्दी में योगदान करना न भूलें
hi.wikipedia.org

 
2:03 pm पर, Blogger रेलगाड़ी ने कहा ...

बहुत ही बढ़िया कविता है! अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' - बहुत दिनों बाद यह नाम सुना..बचपन में कोई कविता पढ़ी थी इनकी किसी पाठ्य-पुस्तक में - और कोई कविता है इनकी आपके पास?

 
1:04 am पर, Blogger Anshul ने कहा ...

अापका जालस्थल देख कर मज़ा अा गया!

 
9:28 pm पर, Blogger Munish ने कहा ...

धन्यवाद अन्शुल ।

बहुत समय से कोई रचना प्रेषित ना कर पाने के लिये कविता सागर के पाठकों से क्षमा चाहता हूँ । भविष्य में प्रयत्न रहेगा कि यह गलती फिर ना हो ।

 

टिप्पणी करें

<< मुखपृष्ट